Monday, 15 April 2019

INS Kalvari: PM मोदी नौसेना को सौंपेंगे कलवरी पनडुब्बी, बढ़ेगी सेना की ताकत, जानिए खास बातें

INS Kalvari: PM मोदी नौसेना को सौंपेंगे कलवरी पनडुब्बी, बढ़ेगी सेना की ताकत, जानिए खास बातें

भारत के लिए ऐतिहासिक होगा क्योंकि 14 दिसंबर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी देश को INS कलवरी समर्पित करने वाले हैं। INS कलवरी को मुंबई में वेस्टर्न नेवी कमांड के एक कार्यक्रम में शामिल किया जाएगा।
आपको बता दें कि यह एक डीजल-इलेक्ट्रिक अटैक वाली पनडुब्बी है जिसे डीसीएनएस (फ्रांसीसी नौसैनिक रक्षा और ऊर्जा कंपनी) द्वारा डिजाइन किया गया है और इसे मुंबई में माज़गन डॉक लिमिटेड में निर्मित किया गया है। आपको बता दें कि यह पनडुब्बी हिंद महासागर में भारत की ताकत को बढ़ाने का काम करेगी।
  • मालूम हो कि हाल ही में 8 दिसंबर को भारतीय नेवी की सबमरीन टुकड़ी ने सिल्वर जुबली मनाई है और यह 17 साल बाद होगा जब भारतीय नेवी को उसकी पारंपरिक पनडुब्बी मिलेगी। इस कार्यक्रम की खास बात ये है कि इस महान आयोजन में भारत की पहली पनडुब्बी के कमांडिंग अफसर 92 वर्षीय कमांडर केएस. सुब्रमण्यम भी शामिल रहेंगे।
INS कलवरी :
अब इसे इत्तफाक कहें या खूबसूरत संयोग कि देश की पहली पनडुब्बी का नाम भी INS कलवरी ही था और उस INS कलवरी के कमांडिंग अफसर इस गौरवान्वित पल के साक्षी बनेंगे।आठ दिसंबर 1967 को आईएनएस कलवरी नौसेना में शामिल हुई थी जिसे लगभग तीन दशकों के बाद 31 मई 1996 को सेवा से हटा दिया गया था।
  • आईएनएस कलवरी में पिछली डीजल-इलेक्ट्रिक पनडुब्बियों की तुलना में बेहतर छुपने वाली प्रौद्योगिकी है। इस पनडुब्बी के माध्यम से टारपीडो के साथ एक हमले शुरू किए जा सकते है। यह उष्णकटिबंधीय समेत सभी सेटिंग्स में काम कर सकती हैं। माइन बिछाने, क्षेत्र निगरानी, खुफिया जानकारी और युद्ध गतिविधियों सहित इस गुप्तता वाली पनडुब्बी के माध्यम से कई रक्षा गतिविधियों का संचालन किया जा सकता है। 

एंटी शिप मिसाइल :
इस पनडुब्बी के माध्यम से पानी की सतह पर या नीचे की सतह से एंटी शिप मिसाइल लॉन्च की जा सकती है, कलवारी को विशेष इस्पात से बनाया गया है. जिससे ये उच्च तीव्रता के हाइड्रोस्टाटिक बल का सामना कर सकती है और महासागरों में गहराई से गोता लगा सकती है।
बढ़ेगी नेवी की ताकत :
खबर है कि जलावतरण के समय एक कमीशनिंग वारंट पढ़ा जाएगा और रंगों को बिखेरा जाएगा, इस मौके पर राष्ट्र गान भी गाया जाएगा। रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण, नौसेना प्रमुख एडमिरल सुनील लांबा, पश्चिम नौसेना कमान के फ्लैग ऑफिसर कमांडिंग वाइस एडिमरल गिरीश लूथरा और शीर्ष अधिकारी इस समारोह में शामिल होंगे।
Share This
Previous Post
Next Post

Pellentesque vitae lectus in mauris sollicitudin ornare sit amet eget ligula. Donec pharetra, arcu eu consectetur semper, est nulla sodales risus, vel efficitur orci justo quis tellus. Phasellus sit amet est pharetra

0 comments: